स्वामी विवेकानंद जी की रेल यात्रा का किस्सा

हेलो दोस्तों आज हम आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की ट्रैन यात्रा का किस्सा बताना चाहते है |

एक समय की बात है, एक संत ट्रेन में यात्रा कर रहे थे। अपनी यात्रा और प्रभु के नाम में मगन है। उनकी सीट के सामने वाली सीट पर दो लड़कियां यात्रा कर रही थी उन्होंने देखा कि एक साथ भगवा कपड़े पहने यात्रा कर रहा है, दोनों के मन में शरारत सूझी और संत व्यक्ति का मजाक उड़ाने लगे। संत व्यक्ति उनकी बातों पर कोई भी प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की और वह अपने आप में मगन थे।

अचानक उन लड़कियों की नजर स्वामी जी के हाथ पर गई, जिस पर उन्होंने एक बहुत ही महंगी घड़ी पहन रखी थी। लड़कियों ने सोचा क्यों न घड़ी को हथिया लिया जाए | यह वह टाइम था जब गोरे लोगों की सुनवाई अन्य लोगों से ज्यादा की जाती है। उन्होंने स्वामी जी को धमकाना शुरू कर दिया और कहा,”यह घड़ी आप हमें दे दीजिए नहीं तो हम आपकी शिकायत टीटी को कर देंगे कि यह व्यक्ति हैं हमें छेड़ रहा है और इसके पास यह चोरी की हुई घड़ी भी है।”

स्वामी जी अपने आप में ही मगन थे जैसे उन्होंने कुछ सुना ही नहीं।

स्वामी जी ने उनकी तरफ देखा तक भी नहीं। लड़कियों ने वही बात तीन चार बार कहा, किन्तु स्वामी जी की तरफ से कोई भी उत्तर ना आता देखकर उनको लगा कि वह व्यक्ति बहरा है और मैं सुन नहीं पा रहा। फिर उन्होंने स्वामी जी को इशारों से समझाने की कोशिश की। इस पर भी स्वामी जी का कोई जवाब नही दिया। फिर स्वामी जी ने इशारों इशारों में को कहा कि आप जो कुछ कहना चाहते हैं वह मुझे लिख कर दे, ताकि मैं उसको पढ़ कर समझ सकू।

उन लड़कियों ने ज्यादा दिमाग न लगाते हुए, वही बातें कागज पर लिखकर स्वामी जी को दे दिया । स्वामी जी ने उसको पढ़ कर कहा आप चाहे तो टीटी को बुला सकते हैं और मैं उनको यह कागज दिखाकर को बता दूंगा कि यह दोनों महिलाएं मुझे लूटना चाहती हैं। स्वामी जी को बोलता देखकर दोनों लड़कियां आपकी बाकी रह गई उन्हें अपने आप पर विश्वास नहीं हो रहा था की जो व्यक्ति इतनी देर से खामोश था वह अब बोल रहा है।

अगले स्टेशन पर दोनों लड़कियां नीचे उतर कर वहां से भाग गई।

निष्कर्ष: स्वामी विवेकानंद जी ने अपने दिमाग का प्रयोग करते हुए उस कठिन परिस्थिति से बाहर आ गए। इसी प्रकार हमारे जीवन में बहुत सारी परेशानियां हैं, मगर यदि हम चाहें तो परेशानियों से अपने दिमाग का सही तरह से प्रयोग कर हम भी वहां से बाहर आ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top